संसार के महान उपन्यास : डॉ. राघव द्वारा मुफ्त हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक | Sansar Ke Mahan Upnyas : by Dr. Raghav Free Hindi PDF Book

( Download Link Given Below / डाउनलोड लिंक नीचे दिया गया हैं )

Sansar-Ke-Mahan-Upnyas-Dr-Raghav-संसार-के-महान-उपन्यास-डॉ-राघव



पुस्तक का नाम / Name of Book : संसार के महान उपन्यास / Sansar Ke Mahan Upnyas


पुस्तक के लेखक / Author of Book : डॉ. राघव / Dr. Raghav


पुस्तक की भाषा / Language of Book : हिंदी / Hindi


पुस्तक का आकर / Size of Ebook : 8 MB


कुल पन्ने / Total pages in ebook : 420


पुस्तक डाउनलोड स्थिति / Ebook Downloading Status  : Best 

(Report this in comment if you are facing any issue in downloading / कृपया कमेंट के माध्यम से हमें पुस्तक के डाउनलोड ना होने की स्थिति से अवगत कराते रहें )


पुस्तक का विवरण : इस पुस्तक में संसार के महान उपन्यासकरों के ४५ सार्वोत्तम उपन्यासों का कथासागर दिया गया है| टालस्टाय, दास्तोएवस्की, बाल्जाक, तुर्गनेव, गोर्की, फ्लाबेयर, जोला, हार्डी, वेल्स, पस्तेरनाक आदि जैसे उपन्यासकारों की अमर रचनाओं का कथासार अत्यंत रोचक शैली में और इस कुशलता के साथ प्रस्तुत किया गया है कि पाठक को न केवल इस उपन्यासों की संक्षिप्त कथा का बल्कि उपन्यासकार की कला और मूल पुस्तक की प्रमुख विशेषताओं का भी परिचय मिल जाता है..............


अन्य उपन्यास पुस्तकों के लिए यहाँ दबाइए-  "हिंदी उपन्यास पुस्तक"


Description about eBook : This book has been 45 Best novels of great Novelists the world | Storytelling of novels such as Tolstoy, Dastoyevsky, Balzak, Turgenev, Gorky, Flaibayer, Jola, Hardy, Wells, Pasteurak etc. In a very interesting style and with this skill, it has been presented that the reader is not only given the short story of these novels but also the introduction of the novelist's art and the main features of the original book..................


To read other Novel books click here"Hindi Novel Books"


सभी हिंदी पुस्तकें ( Free Hindi Books ) यहाँ देखें





इस पुस्तक को दुसरो तक पहुचाएं 






श्रेणियो अनुसार हिंदी पुस्तके यहाँ देखें 


One Quotation / एक उद्धरण

“ग्राहक हमारे लिए एक विशिष्ट अतिथि है। वह हम पर निर्भर नहीं है। हम ग्राहक पर निर्भर हैं। वह हमारे कार्य में व्यवधान नहीं है - बल्कि वह इसका उद्देश्य है। हम ग्राहक की सेवा कर कोई उपकार नहीं कर रहे। वह सेवा का मौका देकर हम पर उपकार कर रहा है।”
महात्मा गांधी

--------------------------------

“A customer is the most important visitor on our premises. He is not dependent on us. We are dependent on him. He is not an interruption in our work - he is the purpose of it. We are not doing him a favor by serving him. He is doing us a favor by giving ” 
Mahatma Gandhi






जो करते हैं हिंदी कहानियों से प्यार ! उनका यहाँ स्वागत है

Your Hindi Blog .com

कमेंट करके हमें उन पुस्तकों के बारे में जरुर बताये , जिन्हें आप डाउनलोड नही कर पा रहें

Post a Comment

 
Top