मीठे का शौक़ीन मुचकुंद : माधव गाडगिल द्वारा मुफ्त हिंदी पीडीऍफ पुस्तक | Muchkund and His Sweet Tooth : by Madhav Gadgil Free Hindi PDF Book

( Download Link Given Below / डाउनलोड लिंक नीचे दिया गया हैं )

muchkund-and-his-sweet-tooth-madhav-gadgil-मीठे-का-शौक़ीन-मुचकुंद-माधव-गाडगिल



पुस्तक का नाम / Name of Book : मीठे का शौक़ीन मुचकुंद / Muchkund and His Sweet Tooth


पुस्तक के लेखक / Author of Book : माधव गाडगिल / Madhav Gadgil


पुस्तक की भाषा / Language of Book : हिंदी / Hindi


पुस्तक का आकर / Size of Ebook : 7.1 MB


कुल पन्ने / Total pages in ebook : 36


पुस्तक डाउनलोड स्थिति / Ebook Downloading Status  : Best 

(Report this in comment if you are facing any issue in downloading / कृपया कमेंट के माध्यम से हमें पुस्तक के डाउनलोड ना होने की स्थिति से अवगत कराते रहें )


पुस्तक का विवरण : यह कहानी है मुचकुंद की जो एक बड़ा ही होनहार जवान भूत है और पुणे के वेताल बाबा भूत परिवार से हैं| एक मुन्ज्या भूत होने के कारण वह दल के बाकी भूतों से कहीं अधिक चतुर है और स्वाभाव से मददगार भी| वह पुणे विश्वविध्यालय परिसर में एक विशाल पीपल के पेड़ पर रहता है| मुचकुंद अक्सर विश्वविध्यालय की कक्षाओं में एक छात्र के रूप में जा बैठता है| बीच-बीच में वह किसी गौरेया का रूप धर कर प्रयोगशाला की खिडकियों पर बैठ कर भीतर हो रहे प्रयोगों को देखता है| वह सदा ज्ञान की खोज में जूता रहता है..............


अन्य बाल पुस्तकों के लिए यहाँ दबाइए-  "हिंदी बाल पुस्तक"


Description about eBook : This is the story of Mukchand who is a very promising young ghost and Vetal Baba from Pune belongs to the ghost family. Due to being a monster ghost, he is more clever than the other ghosts of the party and also helpful by nature. She lives on a huge peepal tree in the University of Pune campus. Mukchand often goes as a student in classrooms of the University. In between, he sees the experiments being done by sitting on the window of the laboratory by making the form of a gauraya. He keeps shoe in search of knowledge forever................


To read other Children books click here"Hindi Children Books"


सभी हिंदी पुस्तकें ( Free Hindi Books ) यहाँ देखें





इस पुस्तक को दुसरो तक पहुचाएं 






श्रेणियो अनुसार हिंदी पुस्तके यहाँ देखें 


One Quotation / एक उद्धरण

“जो व्यक्ति दूसरों की भलाई चाहता है, वह अपनी भलाई को सुनिश्चित कर चुका होता है।”
कंफ्यूशियस

--------------------------------

“He, who wishes to secure the good of others, has already secured his own.”
Confucius






जो करते हैं हिंदी कहानियों से प्यार ! उनका यहाँ स्वागत है

Your Hindi Blog .com

कमेंट करके हमें उन पुस्तकों के बारे में जरुर बताये , जिन्हें आप डाउनलोड नही कर पा रहें

Post a Comment

 
Top