सत्याग्रह और विश्व शांति : रंगनाथ दिवाकर द्वारा मुफ्त हिंदी पीडीएफ पुस्तक | Satyagrah Aur Vishva Shanti : by Rangnath Diwakar Free Hindi PDF Book

( Download Link Given Below / डाउनलोड लिंक नीचे दिया गया हैं )

satyagrah-aur-vishva-shanti-rangnath-diwakar-सत्याग्रह-और-विश्व-शांति-रंगनाथ-दिवाकर



पुस्तक का नाम / Name of Book : सत्याग्रह और विश्व शांति / Satyagrah Aur Vishva Shanti


पुस्तक के लेखक / Author of Book : रंगनाथ दिवाकर / Rangnath Diwakar


पुस्तक की भाषा / Language of Book : हिंदी / Hindi


पुस्तक का आकर / Size of Ebook : 3.4 MB


कुल पन्ने / Total pages in ebook : 98


पुस्तक डाउनलोड स्थिति / Ebook Downloading Status  : Best 

(Report this in comment if you are facing any issue in downloading / कृपया कमेंट के माध्यम से हमें पुस्तक के डाउनलोड ना होने की स्थिति से अवगत कराते रहें )


पुस्तक का विवरण : "आप मुझे सत्याग्रह की दशा में अपनी क्रियाशीलताएँ बंद कर देने के लिए कहें तो वह मेरे जीवन को समाप्त कर देने के समान होगा| यदि मैं पशुबल के स्थान पर आत्मिक-शक्ति के उपयोग को व्यापक रूप दे सकूं, तो में जानता हूँ कि मैं आपको ऐसा हिन्दुस्तान दे सकता हूँ जो सारे संसार को चुनौती दे सकता है..............


इतिहास से सम्बंधित अन्य पुस्तकों के लिए यहाँ दबाइए-  "हिंदी ऐतिहासिक पुस्तक"


Description about eBook : "If you ask me to stop my activities in the state of Satyagraha, then it will be like ending my life. If I can use the power of spiritual power in place of cattle, then I know that I You can give us a Hindutva which can challenge all the world..................

To read other History books click here"Hindi Historical Books"


सभी हिंदी पुस्तकें ( Free Hindi Books ) यहाँ देखें





इस पुस्तक को दुसरो तक पहुचाएं 






श्रेणियो अनुसार हिंदी पुस्तके यहाँ देखें 


One Quotation / एक उद्धरण

“मैं मानवता से हैरान हूँ। क्योंकि मनुष्य पैसा कमाने के लिए अपने स्वास्थ्य को बलिदान करता है। फिर अपने स्वास्थ्य को पाने के लिए वह धन खर्च करता है। वह भविष्य के बारे में इतना चिंतित रहता है कि वर्तमान का आनंद नहीं लेता है; नतीजा यह होता है कि वह न वर्तमान में और न भविष्य में जीता है; वह ऐसे जीता है जैसे कि कभी मरने वाला नहीं है, और फिर मरता है जैसे वास्तव में कभी जिया ही नहीं हो।”
दलाई लामा

--------------------------------

“I am surprised by humanity. Because a man sacrifices his health in order to make money. Then he sacrifices money to recuperate his health. And then he is so anxious about the future that he does not enjoy the present; the result being that he does not live in the present or the future; he lives as if he is never going to die, and then dies having never really lived.”
Dalai Lama






जो करते हैं हिंदी कहानियों से प्यार ! उनका यहाँ स्वागत है

Your Hindi Blog .com

कमेंट करके हमें उन पुस्तकों के बारे में जरुर बताये , जिन्हें आप डाउनलोड नही कर पा रहें

Post a Comment

 
Top